रेलवे स्टेशन के नाम के पीछे क्यों लिखा होता है सेंट्रल, जंक्शन या टर्मिनस, जानें

देश में बहुत से लोग लंबी दूरी की यात्रा के लिए रेलवे का उपयोग करते हैं। रेल यात्रा आरामदायक और किफायती दोनों है। रेलवे से यात्रा करते समय कई लोगों को कई नियमों और विनियमों का पालन करना पड़ता है। कुछ बातें लोगों के सामने होती हैं, लेकिन ज्यादातर लोगों को उनके बारे में पता नहीं होता है। सेंट्रल, जंक्शन और टर्मिनस सहित रेलवे से संबंधित कुछ शब्द हैं।हालांकि इनका मतलब कम ही लोग जानते हैं।

क्या होता है जंक्शन का मतलब नवभारत टाइम्स के अनुसार,ट्रेन के मार्ग पर पड़ने वाले कई स्टेशनों के नाम के पीछे जंक्शन लिखा होता है. अधिकतर यह बड़े स्टेशन के नाम के पीछे लिखा होता है. यदि किसी स्टेशन के नाम के पीछे जंक्शन लिखा है. तो इसका मतलब हम आपको बता देते है कि इस स्टेशन पर ट्रेन के आने-जाने के एक से अधिक रास्ते हैं. मतलब ये है कि कोई ट्रेन मार्ग से आ रही है, तो वह दो रास्तों से जा सकती है.इसी तरह के स्टेशनों के पीछे ही जंक्शन लिखा होता है.

क्यों लिखा होता है सेन्ट्रल यदि किसी स्टेशन के लास्ट में सेन्ट्रल लिखा हो तो इसका मतलब ये है कि उस शहर में एक से अधिक रेलवे स्टेशन है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जिस स्टेशन के लास्ट में सेंट्रल लिखा होता है. वह उस शहर का सबसे ओल्ड रेलवे स्टेशन होता है. इसके अलावा सेन्ट्रल से इस बात की भी जानकारी मिलती है कि वह स्टेशन शहर में सबसे अधिक व्यस्त रेलवे स्टेशन है. इस समय देश में सिर्फ 5 सेन्ट्रल स्टेशन हैं.

टर्मिनस का या टर्मिनल का अर्थ यदि किसी रेलवे स्टेशन के आगे टर्मिनस या टर्मिनल लिखा होता है तो इसका मतलब ये है कि उस स्टेशन से आगे रेलवे ट्रेक (Railway Track) नहीं है. हम आपको बता देते है कि यहां ट्रेन जिस दिशा की तरफ से आती है. वह वापस उसी दिशा में चली जाती है. देश में वर्तमान समय 27 ऐसे स्टेशन हैं, जहां टर्मिनस या टर्मिनल लिखा हुआ है.

Copy

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copy