Safety Tips: बारिश में करते हैं बाइक की सवारी, इन बातों का रखे ध्यान बचें दुर्घटना से

Safety Tips: बारिश का मौसम एक ऐसा सीजन है जो न आए तो परेशानी आये तो भी आफत। इस समय से अक्सर दोपहिया वाहन मालिक डरते हैं। बारिश में फंसने से फंसे होने का खतरा रहता है। इतना ता की भीगने से वाहन भी बिगड़ सकता है और खुद की तबियत भी। बारिश के मौसम में अक्सर गाड़ियों में ग्लिच भी देखि गई जिसका सबसे ज्यादा दिक्क्त बाइक राइडर्स को आती है। तो अपने इस रिपोर्ट में आपको बताते हैं सेफ्टी बाइक टिप्स-

वाहन स्किडिंग स्किडिंग बारिश के दौरान सबसे ज्यादा बड़ी समस्या में से एक है। असल में, बारिश के सीजन के दौरान सबसे ज्यादा दोपहिया वाहनों के बीमा दावे इसी वजह से दर्ज होते हैं। पर आपको बता दें स्किडिंग सिर्फ टायर पहनने की समस्या नहीं है, बल्कि स्किडिंग भी ब्रेक से जुड़ी एक समस्या हो सकती है। इसलिए, ये ज़रूर सुनिश्चित कर लें कि सड़क पर टकराने से बचने के लिए उनके टायर और ब्रेक की कंडीशन को अच्छे से देख लें।

पेट्रोल टंकी में पानी ढीले ताले वाले पुराने दोपहिया वाहनों के लिए पेट्रोल की ये समस्या आम है। जिससे की ईंधन टैंक में पानी से रिसता है, और वाहन रुक जाता है। आम तौर पर आपको आसानी से समस्या का पता नहीं चल पाएगा जिसके वजह से वाहन के स्टार्ट नहीं होने में दिक्क्त होती है। तो अगर आपके पास पुराना वाहन है तो यदि आपका वाहन पुराना है, तो पानी के संभावित रिसाव के लिए पेट्रोल कैप का निरीक्षण करें और यदि आवश्यक हो तो इसे बदल दें। नहीं तो बाइक कवर का इस्तेमाल करें।

री-स्टार्ट की दिक्क्त मानसून के समय में अपेक्षाकृत कम तापमान के कारण, ठंडे इंजन की वजह से अक्सर सेल्फ स्टार्ट की समस्या हो सकती है।लगातार सेल्फ-स्टार्ट करने से स्टार्टर रिले या फिर स्टार्टर मोटर को भी नुकसान पहुंचाता है। इसके लिए ऐसा कर सकते हैं कि या तो सुबह वाहन को किक-स्टार्ट करें या फिर बैटरी बदलने कर देखें।

Copy

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copy