अब Train Food में भी आपको देना होगा GST, विवाद खत्म करने के लिए लिया गया फैसला

Train Food GST: दिल्ली के अपीलेट अथॉरिटी फॉर एडवांस रूलिंग्स (Appellate Authority for Advance Ruling ) ने इस बात का एलान कर दिया है कि सफर के दौरान अब यात्रियों को खाने-पीने की चीजों पर कितना फीसदी जीएसटी देना होगा। बता दें Train Food पर लगने वाली GST को लेकर काफी लंबे समय से विवाद चल रहा है। इस विवाद को विराम मिल गया क्योंकि AAAR ने बता दिया है कि ट्रेन या रेलवे प्लेटफॉर्म पर मिलने जाने वाले खाने पीने की चीजों पर अब 5% सेम रेट से GST लगा। पर ट्रेनों में न्यूज पेपर की सप्लाई पर जीएसटी नहीं लगेगा।

खत्म हुआ GST विवाद
अपीलेट अथॉरिटी फॉर एडवांस रूलिंग्स यानी AAAR द्वारा बताया गया है कि ‘रेल में रेलवे से लाइसेंस लिए हुए कैटरर द्वारा फूड सर्व किया (Train Food) जाए या फिर बगैर लाइसेंस वाले केटरर मील पेश करें, सब पर 5 फीसदी की दर से ही जीएसटी दर लागू होगी। जीएसटी की दर पर चल रहे विवाद को खत्म करने की दिशा में ये बड़ा फैसला लिया गया है।’

AAAR ने कहा सामान्य दर नहीं होंगे लागू
बता दें कि AAAR की तरफ से मल्लिका आर्य और अंकुर गर्ग की दो सदस्यीय पीठ ने इस फैसले को हामी देते हुए कहा है कि ‘ट्रेन ट्रांसपोरटेशन का एक मीडियम है इसलिए इसे रेस्टोरेंट, मेस या कैंटीन नहीं कहा जा सकता। लिहाजा इस पर उनकी लगने वाली दरों को लागू भी नहीं किया जा सकता है।’ इसके अलावा ये भी फैसला सुनाया गया कि ‘एक मेनू पर फूड एंड ड्रिंक प्रोडक्ट (पका हुआ / एमआरपी / पैक) की सप्लाई के मामले में और आईआरसीटीसी की ओर से आईआरसीटीसी व यात्रियों को टैरिफ के रूप में राजधानी और दुरंतो एक्सप्रेस ट्रेनों में क्लासिफाइड किया जाता है।’

इस मामले में AAAR की ओर से पहले कहा गया था कि GST को अलग-अलग वस्तुओं पर उनकी लागू दरों के हिसाब से ही चार्ज वसूला जाएगा। इसके अलावा भी ट्रेन या प्लेटफॉर्म पर सर्विस के आधार पर GST की अलग-अलग दरें लागू हो सकती थी। जिसके कारण रेलवे को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता था।

ये भी पढ़ें- अब IRCTC दे रही है माता वैष्णो देवी के दर्शन के सुनहरे मौक, रहने खाने की भी दिक्कत नहीं

Copy

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy