Bihar Railway Services: किसी भी यात्री की सीट खली होने पर ट्रेन में ही मिलेगा रिजर्वेशन, बिहार में शुरू हुई ये सर्विस

Bihar Railway Services: बिहार में अक्सर रेल से यात्रा करने वाले लोगों के लिए राहत की खबर सामने आई है। दरअसल, अब यात्रियों को चलती गाड़ी में कन्फर्म टिकट मिल पाएगा। इस सुविधा का लाभ यात्रियों को देने के लिए टीटी को कई हाईटेक सुविधा युक्त तकनीकों से लैस किया गया है। रेल प्रशासन द्वारा टीटी को HHT यानी हैंड हेल्ड टर्मिनल नामक एक डिवाइस दिया गया है। यह डिवाइस देखने में टैब जैसा है। शुरुआती दौर में रेल विभाग द्वारा सहरसा से पटना आने-जाने वाली सुफरफस्ट राज्यरानी एक्सप्रेस से इसकी शुरुआत की गई है।

यात्रियों को मिलेगी राहत
सामने आई जानकारी के मुताबिक हैंड हेल्ड टर्मिनल डिवाइस में टीटी व रेल कर्मी खाली बर्थों के बारे में जानकारी अपडेट करेंगे। डाटा को भरते ही आरएसी टिकट ऑटोमेटिक कन्फर्म हो जाएगा। यानी यात्रियों को आधा नहीं ब्लकि पूरा बर्थ आसानी से मिल सकेगा। बता टिकट को लेकर यात्रियों के मोबाइल पर मैसेज भी आ जायेगा। बता दें इस नई सुविधा के आने के बाद यात्रियों को टीटी के पास सीट मुहैया कराने के लिए भागदौड़ नहीं करनी होगी।

टीटी हो रहे प्रशिक्षित
समस्तीपुर मंडल के डीआरएम के अनुसार धीरे-धीरे सभी ट्रेनों में HHT की सुविधा दी जाएगी। HHT सुविधा लैस ट्रेनों में आरक्षित कोच में खाली बर्थ की जानकारी अन्य यात्रियों को इंटरनेट के जरिए मिल जाएगी। फिलहाल समस्तीपुर मंडल में 64 एचएचटी टीटीई को दिया गया है। बता दें एचएचटी चलाने के लिए टीटीई को प्रशिक्षण भी मिल रहा है।

ये भी पढ़ें- Railway Rules: अक्सर करते हैं ट्रेन से सफर? जानें रेलवे के ये ज़रूरी नियम सफर हो जाएगा आसान

HHT से मिलेगी ये सुविधा
आपको बता दें HHT पर गाड़ी के सभी चार्ट ऑनलाइन उपलब्ध कराए जायेंगे। इसके उपलब्ध होने पर न तो टीटी को चार्ट लेने जाना होगा और न ही किसी को गाड़ी पर चार्ट पहुंचाने की मेहनत करनी होगी। इतना ही नहीं करेंट चार्ट भी टीटी को ऑनलाइन मिल जाएगा। इसके अलावा ट्रेन में किराया गिनने के लिए भी एचएचटी सहायक रहेगा।

ट्रेन में उपलब्ध डॉक्टरों की भी मौजूद होगी जानकारी
यात्री के यात्रा विवरण की खोज पीएनआर के अलावा यात्री के नाम द्वारा भी किया जाएगा। अब वेटिंग लिस्ट के अलावा कैंसल मोड पर गए यात्रियों की जानकारी भी एचएचटी के मदद से आसानी से मिल जाएगी। बता दें उस गाड़ी में अन्य वीआईपी या डॉक्टरों की मौजूदगी के बारे में भी जानकारी एचएचटी एप पर उपलब्ध रहेगी।

Copy

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copy