Bihar News: बिहार में बरौनी यूरिया कारखाना है तैयार, इस महीने से शुरू किया जायेगा उत्पादन

Bihar News: 8388 करोड़ की लागत से बने बरौनी खाद कारखाने में इसी साल अगस्त के महीने से उत्पादन शुरू होने की संभावना जताई गई है। इस मामले में राज्यसभा में भाजपा सांसद सुशील कुमार मोदी के एक प्रश्न के उत्तर में रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री भगवंत खूबा ने बताया कि ‘बिहार के बरौनी में स्थापित हो रहे यूरिया खाद कारखाने की कुल लागत 8388 करोड़ है। इसमें से 75% राशि खर्च हो चुकी है।’

वैसे तो अगस्त 2022 तक राज्य में नैनो यूरिया प्लांट लगाने का कोई प्रस्ताव नहीं है और न ही कारखाना प्रारंभ होने की संभावना है। मोदी के एक अन्य सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री ने बताया कि ‘पूरे देश में नैनो यूरिया के छह राज्यों में आठ स्थानों पर फैक्टरी स्थापित किए जा रहे हैं। यहां 48 करोड़ बोतल (500 मिलीलीटर) प्रतिवर्ष उत्पादन होगा।’ फिर बिहार के बारे में पूछेजाने पर केंद्रीय मंत्री ने बताया कि वर्तमान में बिहार में नैनो यूरिया प्लांट लगाने का कोई प्रस्ताव नहीं है।

दो बार समय पर पूरा नहीं हुआ लक्ष्य

बीते दिनों इस नए बरौनी फर्टिलाइजर कारखाने का निरीक्षण खुद बेगूसराय के सांसद और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने किया था। इस कारखाने की क्षमता 1.27 मिलियन मैट्रिक टन सालाना की है। बता दें पहले तो मार्च 2021 उसके बाद नवंबर 2021 में उत्पादन शुरू करने का लक्ष्य रखा गया था। पर दोनो ही बारी कोरोना काल के चलते और रॉ मटेरियल की कमी की वजह से समय से काम पूरा नहीं हो पाया। हालांकि एक बार फिर अब अब उम्मीद जगी है। बताया जा रहा है कि अगस्त 2022 से बरौनी खाद कारखाना से यूरिया का ना सिर्फ उत्पादन होगा, बल्कि बाजार में भी आ जाएगा।

किसानों को होगा फायदा

बरौनी कारखाने में यूरिया का उत्पादन होने से किसानों को काफी मदद मिलने की उम्मीद जताई जा रही है। इस कारखाने को लेकर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि, ‘अब तक बरौनी फर्टिलाइजर में लालू यादव और अन्य लोगों ने सिला पट्ट लगाने का काम जरूर किया, लेकिन आज तक कारखाना शुरू नहीं हुआ। अब केंद्र की मोदी सरकार ने इसे न सिर्फ शिलान्यास किया, बल्कि अब उद्घाटन के करीब भी पहुंच गया है।’

Copy

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copy