Barauni Refinery: अब बिहार में बने ईंधन से उड़ेंगे हवाईजहाज, बरौनी रिफाइनरी द्वारा सप्लाई होगा फ्यूल

Barauni Refinery: बरौनी रिफाइनरी कहा जा रहा की यदि सभी चीज़ें सही अगले महीने से कारखाने से विश्वस्तरीय एविएशन टरबाइन फ्यूल (एटीएफ) यानी हवाई ईंधन का उत्पादन शुरू किया जायेगा। इसको शुरू करने के लिए लगभग सभी प्रयोग पूरे हो गए हैं यहाँ तक की कमीशनिंग का काम लगभग पूरा हो चुका है। बता दें उत्पादित एटीएफ को माइक्रो टेस्टिंग के लिए ब्रिटेन की सबसे प्रमुख लैब कंपनी में भी भेजा गया है। कहा जा रहा है की उसकी रिपोर्ट आने के बाद एटीएफ का उत्पादन शुरू हो जायेगा।

मिल गया अनापत्ति प्रमाणपत्र
शामे आई जानकारी के अनुसार, पेट्रोलियम और विस्फोटक सुरक्षा संगठन (पैसो) से इस विषय में अनापत्ति प्रमाणपत्र भी मिल गया है। करीब 250 केटीपीए क्षमता वाली इस यूनिट से टेस्टिंग रिपोर्ट आने के बाद उत्पादन शुरूहो जाना चाहिए। हालाँकि इसका उद्घाटन कब हो ये कह पाना थोड़ा मुश्किल है। पर उम्मीद यह भी है कि 15 अगस्त से उत्पादन शुरू हो सकता है। बता दें इसका निर्णय पेट्रोलियम मंत्रालय के स्तर पर होगा।

पूरी होंगी पटना, दरभंगा और गया एयरपोर्ट की ईंधन की ज़रूरतें
इंडजेट इकाई एटीएफ का उत्पादन करेगी, जिससे पटना, दरभंगा और गया एयरपोर्ट की ईंधन जरूरते पूरी होंगी। इसके अलावापड़ोसी देश नेपाल में एटीएफ की मांग को पूरा करने की मदद की जाएगी। बता दें पांच सालिन से इस प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। इसे लेकर पिछले दिनों इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन के चेयरमैन एसएम वैद्य ने Barauni Refinery के दौरे के दौरान समीक्षा की थी। इंडियन ऑयल के वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक एटीएफ के उत्पादन के लिए कंपनी के आरएंडडी डिवीजन द्वारा विकसित मेक इन इंडिया तकनीक का उपयोग करने वाली पहली इकाई है।

32 साल का था इंतज़ार
आपको बता दें 32 साल के इंतज़ार के बाद पाइपलाइन से मोरीगांव और हल्दिया (पश्चिम बंगाल) से Barauni Refinery में एटीएफ पहुंचने का काम गुरुवार 21 जुलाई से शुरू किया गया है। मालूम हो इसके लिए मोरीगांव और हल्दिया से बरौनी रिफाइनरी तक अंडरग्राउंड पाइप बिछाया गया है। Barauni Refinery में ईंधन को स्टॉक किया जायेगा। इसके बाद टैंकर के माध्यम से पटना, दरभंगा और गया एयरपोर्ट को सप्लाइ किया जायेगा।

Copy

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy